[ad_1]

कोलकाता:

पिछले 6 अक्टूबर को कोलकाता के निजी अस्पताल बेले व्यू क्लिनिक में भर्ती अभिनेत्री सौमित्र चटर्जी की हालत “चिंताजनक और वास्तव में गंभीर” है, ये कहना है कोलकाता के बेले व्यू क्लिनिक में अभिनेता का इलाज कर रही टीम के प्रभारी डॉक्टर का.  डॉ अरिंदम कर ने कहा, “40 दिन की लड़ाई पर्याप्त नहीं रही. हमें अब चमत्कार की जरूरत है.” सौमित्र चटर्जी 85 वर्ष के हैं और उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम देना पड़ा. वह नाममात्र के होश में है.”

यह भी पढ़ें

उनकी हालत जो कई दिनों से गंभीर लेकिन स्थिर बताई गई थी, इस सप्ताह के शुरू में ट्रेकियोस्टोमी और प्लास्मफेरेसिस होने के तुरंत बाद तेजी से बिगड़ गई. सौमित्र चटर्जी को कोरोना वायरस के सकारात्मक परीक्षण के ठीक एक दिन बाद, 6 अक्टूबर को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. अभिनेता ने 14 अक्टूबर को एक सप्ताह के बाद नकारात्मक परीक्षण किया, लेकिन स्वास्थ्य जटिलताओं, विशेष रूप से COVID-19 प्रेरित एन्सेफैलोपैथी के कारण उन्हें भर्ती रखा गया.

चटर्जी द्वारा नकारात्मक परीक्षण किए जाने के कुछ दिनों के भीतर, डॉक्टरों ने कहा कि वह ठीक हो गए है और कुछ दिनों में चल पाएंगे. हालांकि 25 अक्टूबर को चटर्जी का इलाज कर रहे चिकित्सा दल का नेतृत्व कर रहेडॉ अरिंदम ने कहा, “आप सभी जानते हैं कि वह ठीक नहीं है. हमारी तमाम कोशिशों के बावजूद उनकी चेतना में सुधार नहीं हो रहा है.  बल्कि नीचे चला गया है.”

Newsbeep

अक्टूबर के अंतिम सप्ताह से, चटर्जी का वैकल्पिक दिनों में डायलिसिस हो रहा था, जो “अपने कुछ पैरामीटर्स को स्टेबल करने में कामयाब रहा.”

वास्तव में, नवंबर की शुरुआत में उनकी चेतनावस्था (consciousness)ग्लासगो कोमा स्केल में 15 से 9 तक चली गई थी वो 11 पर पहुंच गई थी. इस हफ्ते की शुरुआत में, डॉक्टरों ने उन्हें “एयरवे प्रोटेक्शन” देने के लिए ट्रेकियोस्टोमी करवाया.

[ad_2]

Source link

By admin

Leave a Reply