सीमा की सुरक्षा से लेकर महामारी के खिलाफ मोर्चे पर डटी है आईटीबीपी : किशन रेड्डी

नई दिल्ली/ग्रेटर नोएडा:

केंद्र सरकार ने दुर्गम चोटियों पर देश की सुरक्षा में मुस्तैद और कोरोना वायरस की महामारी के खिलाफ भी आईटीबीपी की मोर्चेबंदी की सराहना की है. भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) की स्थापना के 58 साल पूरे होने पर गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी ने सुरक्षा बल की सेवा और समर्पण की प्रशंसा की. 

यह भी पढ़ें

आईटीबीपी की स्थापना दिवस समारोह ग्रेटर नोएडा में मनाया गया. 59वें Foundation Day पर मुख्य अतिथि रेड्डी ने आईटीबीपी के शहीदों को श्रद्धांजलि दी.  रेड्डी ने कहा कि आईटीबीपी देश के हिमालयी क्षेत्रों में दुर्गम अग्रिम चौकियों की चौकसी से सुरक्षा कर रही है. आईटीबीपी कोविड-19 की महामारी के दौरान भी पूरे समर्पण से सेवा दे रही है. क्वारंटाइन केंद्र बनाने से लेकर विश्व के सबसे बड़े कोविड केयर सेंटर तक स्थापित करने तक मिसाल कायम की है.

आईटीबीपी के महानिदेशक एसएस देसवाल ने ने सुरक्षाबल की विभिन्न उपलब्धियों पर प्रकाश डाला.  इस मौके पर आईटीबीपी के अनेकों पदाधिकारियों को विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक और सराहनीय सेवा के लिए पुलिस पदक से विभूषित किया गया. आईटीबीपी के अपर महानिदेशक अमृत मोहन प्रसाद ने धन्यवाद भाषण में कहा कि आईटीबीपी देश की सुरक्षा और सेवा के लिए हमेशा समर्पित है.   

विभिन्न  क्षेत्रों में आईटीबीपी की बटालियन को उत्कृष्ट  कार्य के आधार 10वीं वाहिनी को सर्वश्रेष्ठ बॉर्डर बटालियन, 26वीं वाहिनी को सर्वश्रेष्ठ नॉन बॉर्डर बटालियन और 53वीं वाहिनी को सर्वश्रेष्ठ एएनओ बटालियन, 36वीं वाहिनी को सर्वश्रेष्ठ ग्रीन बटालियन, और 41 वीं वाहिनी को स्वच्छता के लिए सर्वोत्तम बटालियन घोषित किया गया और ट्राफी देकर सम्मानित किया गया.

 



Source link

By admin

Leave a Reply